भारत सरकार ने हाल ही में नई शिक्षा नीति का ऐलान किया है. नई शिक्षा नीति पर देशव्यापी बहस चल पड़ी है. एक पक्ष इसे क्रांतिकारी मान रहा है तो दूसरा पक्ष इसके सरोकार पर संदेह कर रहा है. आप नई शिक्षा नीति को किस संदर्भ में देखते और समझते हैं. क्या आपको लगता है कि नई शिक्षा नीति से कोई बड़ा बदलाव आएगा या यह भी पुराने ढर्रे पर चलेगा? यही नहीं, मानव संसाधन मंत्रालय का नाम परिवर्तन कर पुन: शिक्षा मंत्रालय किए जाने से शिक्षा के स्तर पर क्या असर होगा? एमफिल खत्म किए जाने से क्या कोई बड़ा बदलाव आएगा? नई शिक्षा नीति से जुड़े ऐसे कई सवाल हैैं जो बहस का मुद्दा बन चुके हैं. आप इस बारे में क्या सोचते हैं? अपने विचार, लेख या शोध पत्र हमें समागम 2020 अगस्त अंक के लिए अविलंब ईमेल से प्रेषित कर दें. samagam2016@gmail.com पर भेज दें